रेप की घटनाओं पर राष्ट्रपति बोले, आत्मनिरीक्षण करे समाज

रेप की घटनाओं पर राष्ट्रपति बोले, आत्मनिरीक्षण करे समाज

देश में बढ़ती रेप की घटनाओं से आम लोगों से लेकर देश के प्रथम व्‍यक्ति राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी भी सन्‍न हैं। राष्‍ट्रपति ने गुरुवार को कहा कि महिलाओं के खिलाफ जघन्य हमलों और बच्चों से बलात्कार की बढ़ती घटनाओं से राष्ट्र की आत्मचेतना हिल उठी है।

राष्‍ट्रपति ने कहा, 'समाज को यह आत्मनिरीक्षण करना चाहिए कि वह क्यों महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने में बार बार विफल हो रहा है। देश को इस प्रकार की अपराधिक पतन के पीछे के कारणों की अवश्य पहचान करनी चाहिए।' उन्होंने इसके साथ ही मौजूदा समय की चुनौतियों से निपटने में नैतिक शिक्षा प्रदान करने के लिए शिक्षण संस्थानों से अग्रिम भूमिका में भी आने को कहा।

प्रणब ने यहां उत्कल यूनिवर्सिटी के 45वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कहा, 'महिलाओं पर जघन्य हमलों तथा बच्चों के बलात्कार की बढ़ती घटनाओं ने सामूहिक रूप से राष्ट्र की चेतना को हिला कर रख दिया है। ये दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं इस तात्कालिक जरूरत को रेखांकित करती हैं कि हमारा समाज थोड़ा रूक कर सोचे और मूल्यों के क्षरण पर आत्मनिरीक्षण करे कि हम क्यों बार बार महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा करने में विफल साबित हो रहे हैं।

इस प्रकार की गतिविधियों के कारणों तथा उसके पीछे के समाधान की पहचान की जरूरत पर जोर देते हुए मुखर्जी ने कहा, 'इस प्रकार का आपराधिक पतन समाज के सभ्य संचालन के लिए खतरा है। उन्होंने कहा, 'समाज को महिलाओं की गरिमा और सम्मान सुनिश्चित करना चाहिए।'

आपकी राय

0 characters
  • No comments found


Back to Top