अदालत ने नारायण साईं को भगोड़ा घोषित किया

अदालत ने नारायण साईं को भगोड़ा घोषित किया

यहां की एक अदालत ने विवादास्पद आसाराम के बेटे नारायण साईं को भगोड़ा घोषित कर दिया जो शहर की एक महिला द्वारा दर्ज यौन उत्पीड़न के मामले में महीनेभर से अधिक समय से भी पुलिस की गिरफ्त से भागता फिर रहा है।

स्थानीय पुलिस उसे और उसके पिता के खिलाफ दो बहनों द्वारा बलात्कार का मामला दर्ज कराये जाने के 35 दिन बाद भी उसका पता नहीं लगा पा रही थी।

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ए एस गाध्वी ने साईं को आज सुबह भगोड़ा घोषित कर दिया क्योंकि साईं सम्मन जारी किए जाने के बाद भी पुलिस के सामने पेश नहीं हुआ।

अदालत ने उसे भगोड़ा घोषित करने के दिन से 30 दिन के अंदर जांच अधिकारी या अदालत के सामने पेश होने को कहा है। अदालत ने कहा कि यदि वह 30 दिन के अंदर पेश नहीं हो पाता है तो उसके खिलाफ सीआरपीसी की धारा 83 के तहत कार्रवाई की जाएगी और उसकी निजी संपत्ति जब्त कर ली जाएगी।

साईं के खिलाफ छह अक्तूबर को मामला दर्ज किया गया। उसके अगले दिन सूरत पुलिस ने उसके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया ताकि वह देश छोड़कर नहीं जा सके।

पुलिस ने दोनों बहनों की शिकायत के आधार पर आसाराम और साईं के खिलाफ बलात्कार, यौन हिंसा, अवैध बंधक और अन्य अपराधों के आरोपों के तहत मामला दर्ज किया है।

छोटी बहन ने साईं पर जबकि बड़ी बहन ने आसाराम पर बलात्कार का आरोप लगाया था। आसाराम के खिलाफ एक और ऐसा ही मामला है।

आपकी राय

0 characters
  • No comments found


Back to Top